#530. मोहब्बत का मुकम्मल किनारा… ( Mohabbat ka Mukammal Kinara…)

​बहुत टूटा था मैं जब मुझे उसके साथ का सहारा मिला।

मेरी डगमगाती ज़िन्दगी की नाव को एक मुकम्मल किनारा मिला।।


Bahut Toota tha Main jb mujhe uske saath ka Sahara mila…

Meri Dagmagati Zindgi ki naav ko ek mukammal Kinara mila…

© mयंक

3 thoughts on “#530. मोहब्बत का मुकम्मल किनारा… ( Mohabbat ka Mukammal Kinara…)”

Leave a Reply