#533. शायर की कहानी… (Shayar ki kahani )

​कागज कोरा,

दिल में एहसास भरे।

कलम सूखी,

पलकें भीगी ।

जब अपने साथ बीती, तब ये बात जानी है,

हर शायर की ये अपनी कहानी है।।


Kagaj kora,

Dil me Ehsas bhare.

Kalam sookhi,

Palken bheegi.

Jab apne saath beeti, tab ye baat jaani hai,

Har Shayar ki ye apni Kahani hai.

©mयंक

8 thoughts on “#533. शायर की कहानी… (Shayar ki kahani )”

Leave a Reply