#547. तलवार रुपी जुबां…( Talwaar Roopi Zubaan..)

जुबां से तलवार का काम लेते हैं लोग,

हंसते चेहरे से घायल कर देते हैं लोग।

किसी पर भरोसा आँख बंद करके मत कीजिये,

गले लगाकर पीठ पर छूरा घोप देते हैं लोग।।

5 thoughts on “#547. तलवार रुपी जुबां…( Talwaar Roopi Zubaan..)”

  1. Bewafa se wafa se ummeed karte hokyu rahaa katoo se bahree chunte ho kyu. Jab chubb jataah hai koi kanta. paoo maen phir raatoo uth uth ke roote ho kyu

Leave a Reply