#559. वक़्त को वक़्त की नज़र लगे…

कभी वक़्त को वक़्त की नजर लगे,

वक़्त अपनी डगर से जा भटके।

चलता है ये बिना रुके,

मेरी दुआ है कभी ये इतवार पर जा अटके।।

🤔mयंक

4 thoughts on “#559. वक़्त को वक़्त की नज़र लगे…”

Leave a Reply