#565. जब वो सामने से गुज़रे…

खुदा मेरे दिल को बस इतना मज़बूत कर दे,

की वो सामने से गुज़रे

और मुझे कोई फर्क न पड़े।।

🖋mयंक

7 thoughts on “#565. जब वो सामने से गुज़रे…”

Leave a Reply