#567. उसकी बेवफाई…( Uski Bewafai…)

उसकी बेवफाई का किस्से लिखना इतना आसान कँहा है।

कितनी कलम तोड़ी है,

कितने पन्ने जलाएं हैं,

तब जाकर हम इस मुकाम पर आए है।।

 

Uski Bewafai ka kissa likhna itna Aasan kanha hai.
Kitni Kalam todi hai,
Kitne Panne jalaein hain,
Tab jaakar hum is Pukaam par aae hai..

                                                       ~mयंक


More Post Related to Bewafai…
1. वो बेवफा नहीं… ( Vo Bewafa Nahi..)
2. बेवफा (Bewafaa)…

3. Bewafa vo nikle…

4. वो बेवफा निकला ॥

5. Aajkoi loot le gya mehkhaane ko

~~~~~~ click here to Like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂 ~~~~~~

5 thoughts on “#567. उसकी बेवफाई…( Uski Bewafai…)”

Leave a Reply