#586. Dil ka Dard Shayari


​ज़रूरी नहीं उससे जुड़ी हर बात शायरी में कह दूँ,

कुछ राज़ इस दिल में कैद रहने दीजिये,

कब्र पर चढ़े फूलों की तरह…

Jaruri nahi usse judi har baat Shayari me kehe duun.
Kuch Raaz is Dil me Kaid rehne dijiye,
Kabra par chadhe Phoolon ki tarah…

©mयंक

Leave a Reply